मेरा प्रिय खेल खो खो पर निबंध हिंदी में | kho kho essay in hindi

मेरा प्रिय खेल खो खो पर निबंध हिंदी में पूरी तरह से बताया है आप चाहे कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10 11 या 12 किसी भी कक्षा में हो आपके लिए खो खो पर पूरी तरह से निबंध लिखा हुआ है आप इसे पढ़कर इस खेल के बारे में अच्छे से जान सकते हैं तो चलिए खो खो पर निबंध पढ़ते हैं।

मेरा प्रिय खेल खो खो
मेरा प्रिय खेल खो खो पर निबंध(Mera Priya Khel Kho Kho Essay In Hindi)

प्रस्तावना;- मेरा प्रिय खेल खो खो

जिस तरह हमारे शरीर में ताकत बनाने के लिए भोजन की आवश्यकता होती है उसी प्रकार शरीर को स्वस्थ बनाने के लिए खेल की आवश्यकता होती है और खो खो खेल बहुत ही अच्छा है जिससे आप अपने शरीर को स्वस्थ रख सकते हैं यह खेल भारत में बहुत ही प्राचीन समय से खेला जा रहा है। इस खेल का जन्म भारत में ही हुआ था। और भारत में खो खो का जन्म स्थान बड़ौदा माना जाता है।

मेरा प्रिय खेल खो खो पर निबंध

यह खेल स्कूल में बहुत ही ज्यादा खेला जाता है और यह खेल बच्चों का अच्छा खेल है इसे खेलना बहुत ही आसान है इसके लिए आपको किसी भी तरह की चोट का खतरा नहीं होता है। खो खो खेल को खेलने के लिए ज्यादा साधनों की आवश्यकता नहीं होती है। यह खेल मध्यप्रदेश, गुजरात, उत्तर प्रदेश आदि प्रदेशों में खेला जाता है।

खेल का मैदान

खो खो खेल को खेलने के लिए 111 फुट लंबे और 51 फुट के चौड़ाई के मैदान की आवश्यकता होती है। और इसी खेल के मैदान में 10-10 फुट का स्थान छोड़कर चार चार फुट का लकड़ी के खम्बे गाड़े जाते हैं। और लकड़ी के खंभों की दूरी को आठ भागों में बराबर बराबर रूप में विभाजित करके लगाया जाता है।

खो खो खेल खेलने के लिए मिट्टी का मैदान ही सही रहता है इससे किसी भी खिलाड़ी को किसी तरह का चोट नहीं लगता है।

खो खो खेल कैसे खेलते है

इस खेल में प्रत्येक टीम में 9 खिलाड़ी होते हैं, इस खेल को खेलने के लिए खिलाड़ी को अपने दिमाग का इस्तेमाल करना होता है और इस खेल को खेलने के लिए तेजी और फुर्ती की बहुत ही ज्यादा आवश्यकता होती है। और इस खेल को बालक और बालिका दोनों खेल सकते हैं।

इस खेल में दोनों टीम के खिलाड़ियो को दोनो खम्बो के बीच की रेखा पर एक दूसरे के विरुद्ध अलग अलग दिशा में बिठा दिया जाता है। जब सभी खिलाड़ी अपने अपने स्थान पर हो जाते है तो एक सिटी बजाई जाती है जिससे खेल शुरू हो जाता है।

और खेल शुरू होते ही एक टीम का खिलाड़ी दूसरे टीम के खिलाड़ी को पकड़ने लग जाता है। दोनों खिलाड़ी खंभों के चक्कर लगाते हैं और अपने विरुद्ध के खिलाड़ी को छूने की कोशिश करते हैं अगर सामने वाला खिलाड़ी अपने ही खिलाड़ी के सामने होता है तो उसी टीम का खिलाड़ी अपने ही खिलाड़ी के पीठ को छूकर खो बोलता है।

और इससे जो खिलाड़ी खो बोलता है वा खिलाड़ी अपनी जगह उस खिलाड़ी को दौड़ने के लिए भेज देता है और खुद के स्थान पर बैठ जाता है, अगर एक टीम का खिलाड़ी दूसरे टीम के खिलाड़ी को पकड़ लेता है तो दूसरे टीम का खिलाड़ी खेल से बाहर हो जाता है।

इसी प्रकार यह खेल चलता रहता है और जो टीम अपने विरुद्ध वाले टीम को सबसे पहले पूरे टीम को आउट कर देता है वह टीम इस खेल के प्रतियोगिता को जीत जाता है।

खो खो की प्रतियोगिता

खो खो की पहली प्रतियोगिता 1918 ई. में पूना के जिम खाने में हुआ था, और फिर इसके बाद 1919 में राष्ट्रीय स्तर पर बड़ौदा में खो खो की प्रतियोगिता हुआ था। उसके बाद से कई जगहों पर कई बार खो खो की प्रतियोगिता लगातार होती रहे और आज भी खो खो की प्रतियोगिताएं होती रहती हैं।

सबसे ज्यादा स्कूल में खो खो की प्रतियोगिताएं होती है जिसमें बच्चे भाग लेते हैं और उन्हें इस खेल में बहुत आनंद आता है क्योंकि पढ़ाई के साथ-साथ खेल भी बहुत ही ज्यादा जरूरी है इसीलिए स्कूल में भी बड़े-बड़े प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है।

खो खो खेल के फायदे और निष्कर्ष

खो खो खेल को खेलने से बहुत फायदे हैं जिसे दिमाग के सोचने की क्षमता बढ़ती है जैसे कि आप किसी भी निर्णय को लेने में ज्यादा समय नहीं लगाएंगे और इससे आपके शरीर को भी बहुत फायदा होता है आपको ज्यादा बीमारियां नहीं होती हैं और आप एक स्वस्थ व्यक्ति बने रहते हैं।

इसलिए हमें अपने पढ़ाई और काम के साथ-साथ खेल खेलना भी चाहिए क्योंकि जब हमारा दिमाग और शरीर स्वस्थ रहेगा तो हम काम और पढ़ाई में अच्छे से ध्यान लगा सकेंगे।

Mera Priya Khel Kho kho Par Nibandh

खो खो खेल पर निबंध 10 पंक्तियों में

  1. खो-खो मेरा प्रिय खेल है इसे मैं खेलता हूं।
  2. खो खो खेल को खेलने के लिए हम घर से बाहर निकलते हैं और अपने दोस्तों के साथ खेलते हैं।
  3. खो खो का खेल हमारे विद्यालय में भी होता है।
  4. विद्यालय में कई बार इसकी प्रतियोगिता भी हुई है और मैंने इस प्रतियोगिता में भाग लिया और जीता भी।
  5. इस खेल में 2 टीम होती है।
  6. एक टीम में 9 खिलाड़ी होते हैं।
  7. यह खेल भारत में बहुत ही ज्यादा प्रसिद्ध है।
  8. इसे खेलने के लिए हमें बुद्धि और शारीरिक बल का इस्तेमाल करना होता है।
  9. खो खो खेल को खेलने के लिए एक बड़े मैदान की आवश्यकता होती है।
  10. इस खेल को खेलने से हमारा शरीर स्वस्थ रहता है और हमें किसी भी प्रकार की बीमारी है जल्दी नहीं होती हैं।

वार्तालाप

हमारे इस मेरा प्रिय खेल खो खो पर निबंध का यही उद्देश्य था कि आप यह समझे कि खेल का हमारे जीवन में कितना महत्व है अगर हम खेल खेलेंगे तो उससे हमें क्या फायदा होगा और खो खो क्या होता है और खो-खो के बारे में आपको पूरी जानकारी बताना, अब आपको खो खो के बारे में सब पता चल चुका है अगर आपके मन में कोई भी सवाल है तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं हम उसका जवाब जरूर देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *