दिवाली पर निबंध | Hindi Nibandh on Diwali

दिवाली पर निबंध :- एक नए निबंध लेखन में आपका स्वागत है आज हम दिवाली पर निबंध हिंदी में पढेंगे। इस निबंध में आपको दीवाली पर पूरा निबंध बताऊंगा, तो चलिए हम दीवाली के निबंध को विस्तार से जानते है।

दिवाली पर निबंध (hindi nibandh on diwali)
दिवाली पर निबंध (hindi nibandh on diwali)

दिवाली पर निबंध हिन्दी मे

प्रस्तावना –

हमारे जीवन में त्यौहार का बहुत बड़ा महत्व है त्यौहार आने पर हमारे जीवन में खुशहाली आ जाते हैं सभी धर्मों में कोई न कोई त्यौहार होता है और सभी लोग अपने त्यौहार को बड़े प्रेम से मनाते हैं।

दीवाली का पर्व

दीपावली भी हिंदुओं के प्रमुख त्यौहारों में से एक है यह त्यौहार हर साल अक्टूबर से नवंबर के महीने में आता है इस त्यौहार के कई दिन पहले घरों की सफाई कर ली जाती है और सभी लोग नए नए कपड़े खरीद लेते हैं।

दीपावली के त्यौहार के दिन सभी के घरों में अच्छे-अच्छे पकवान बनते हैं और सभी लोग अपने घरों में दीए जलाकर उजाला करते हैं दीपावली के दिन कहीं भी अंधेरा नहीं रहता है इस दिन गांव और शहर पूरी तरह से जगमगाते रहते हैं।

पूजन

दीपावली के दिन लक्ष्मी माता और गणेश जी की पूजा की जाती है, ताकि सभी के घर में खुशहाली बनी रहे, हमारे घर में भी दीपावली के दिन पूरा परिवार मिलकर एक साथ लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा करते हैं।

पूजा करने के बाद सभी लोग पटाखे और फुलझडिया जलाते हैं और फिर उसके बाद सभी लोग खाना खाने के लिए इकट्ठा हो जाते हैं इस दिन हमारे घर में रंगोली भी बनाई जाती है जिससे घर और भी सुंदर दिखाई देने लगता है।

दीवाली का इतिहास

दीपावली त्यौहार मनाने के पीछे एक कहानी है हिंदू इतिहास के अनुसार श्री राम जी 14 वर्ष का वनवास पूरा करके अयोध्या वापस आए थे और फिर इसी की खुशी में पूरे अयोध्यावासियों ने पूरे अयोध्या को दीपों से सजा दिया था और उस दिन अयोध्या में त्यौहार मनाया गया था, इसीलिए आज तक वह त्यौहार मनाया जाता है।

मेरा प्रिय त्यौहार दिवाली

यह मेरा सबसे पसंदीदा त्यौहारों में से एक है पहले इस दिन मैं पटाखे और फुलझडिया खरीदता था और उसके साथ सावधानी से खेलता था। लेकिन बढ़ते प्रदूषण के कारण अब मै पटाखे से दीपावली नहीं मनाता हूं बल्कि घरों को अच्छे से सजा कर अपनों के साथ इस त्यौहार को मनाता हूं।

इस त्यौहार के दिन मैं उन लोगों की मदद करता हूं जिनके पास इस त्यौहार को मनाने के लिए पैसे नहीं होते हैं इससे मुझे बहुत अच्छा लगता है क्योंकि अगर आप किसी की मदद करते हैं तो उनका आशीर्वाद हमेशा आपके काम आएगा, और मैं दूसरों की मदद करके इस त्यौहार को मनाता हूं और इसमें मुझे बहुत ज्यादा अच्छा लगता है।

हमें अपने घरों में तेल और घी के दिए जलाना चाहिए इससे वातावरण शुद्ध होता है और इस त्यौहार के दिन चाइना से मिलने वाले खराब सामानों को नहीं खरीदना चाहिए क्योंकि इनका इस्तेमाल एक ही बार करके आप फेंक देंगे इसके जगह आप तेल और घी का इस्तेमाल करे इससे हमारा आने वाला भविष्य का वातावरण शुद्ध रहेगा।

उपसंहार

त्यौहार हमारे जीवन में खुशियां लाती हैं लेकिन हमें इस बात का ध्यान देना चाहिए कि इस दिन किसी प्रकार का गलत काम नहीं करना चाहिए जैसे कि जुआ खेलना, कुछ लोग इस दिन जुआ खेलते हैं जो कि बहुत ही ज्यादा गलत बात है इससे हमारे आने वाले भविष्य पर गलत प्रभाव पड़ सकता है, दिवाली के त्यौहार को हमें दूसरों की मदद करके और घरों को सजा कर मनाना चाहिए।

(दिवाली पर निबंध समाप्त)

diwali par nibandh

मेरे शब्द दिवाली निबंध पर

यहा मैंने आपको दिवाली पर निबंध बता दिया है अगर आपको और भी हिन्दी मे निबंध पढ़ने है तो इस ब्लॉग पर सर्च कर सकते है , आपके सारे essay हिन्दी मे मिल जाएगे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *