रामनवमी पर निबंध हिंदी में | ram navami par Hindi nibandh

नमस्कार दोस्तों आज मैं आपको रामनवमी पर निबंध हिंदी में बताऊंगा अगर आप किसी भी कक्षा में है और आपको रामनवमी पर निबंध पढ़ना है तो आप यहां से पढ़ सकते हैं और आपको जितने शब्दों की जरूरत हो आप उतने शब्द को याद कर सकते हैं।

रामनवमी पर निबंध

रामनवमी पर निबंध हिंदी में | ram navami par nibandh
रामनवमी पर निबंध हिंदी में | ram navami par nibandh

प्रस्तावना

हमारे देश में कई तरह के पर्व होते हैं जिनमें से रामनवमी भी एक प्रसिद्ध पर्व है और यह त्यौहार आमतौर पर फरवरी या मार्च के महीने में मनाया जाता है यह त्यौहार बड़े हर्ष और उल्लास के साथ पूरे भारत में मनाया जाता है।

रामनवमी

राम नवमी का पर्व महाराज दशरथ और कौशल्या के पुत्र श्री राम के जन्म दिवस के खुशी में मनाया जाता है इसीलिए तब से आज तक यह पर्व रामनवमी के नाम से प्रसिद्ध है और आज तक भी यह पर्व मनाया जाता है। श्री राम जी को विष्णु भगवान के दसवे अवतार में से सातवां अवतार माना जाता है।

रामनवमी के त्यौहार के कुछ दिन पहले ही सभी राम मंदिरों की सफाई कर ली जाती है और राम मंदिर को अच्छी तरह से सजाया जाता है और फिर राम नवमी के दिन राम भगवान की पूजा की जाती है और कई जगहों पर मेला लगता है और भंडारे का भी आयोजन होता है जहां पर बहुत सारे लोग एक साथ इकट्ठा होगा राम भगवान के जन्म दिवस के खुशी में प्रसाद को ग्रहण करते हैं और राम भगवान से अपने खुश जीवन की प्रार्थना करते हैं।

और कई जगहों पर रामलीला का आयोजन किया जाता है जहां पर बच्चे और बड़े उस रामलीला में भाग लेते हैं जिससे सभी लोगों के मन में धार्मिक भावना और सकारात्मक सोच बढ़ती है।

राम भगवान

श्री राम एक बहुत ही महान पुरुष थे जिन्होंने हमेशा सत्य के राह पर चलना सीखा और हमेशा न्याय किया उन्होंने अधर्मी रावण का संघार करके या साबित कर दिया कि हमेशा अधर्म पर धर्म की ही जीत होती है राम भगवान ने बहुत सारे ऐसे कार्य किए हैं जिनसे हम सभी लोगों को प्रेरणा मिलती है अगर राम भगवान के बारे में सभी जानकारी चाहिए तो आप रामायण पढ़ या देख सकते हैं।

राम भगवान और उनके परिजनों की एक रीति थी जिसमें अगर कोई भी रघुकुल का व्यक्ति कोई वचन देता था तो उसको जरूर पूरा करता था इसीलिए कहा गया है।

रघुकुल रीति सदा चली आई,

प्राण जाए पर वचन न जाई।

इसीलिए राम भगवान ने अपने पिता के वचन को पूरा करने के लिए 14 वर्ष का वनवास भी किया था जिसमें उन्होंने बहुत से धर्म के काम किए और बहुत से लोगों का उद्धार किया।

उप संघार (निष्कर्ष)

इसीलिए राम भगवान को पूजा जाता है और उनकी आराधना की जाती है इसीलिए उनके जन्मदिन की खुशी में रामनवमी मनाया जाता है इस दिन भारत में सभी लोग रामनवमी मनाते हैं, रामनवमी की खुशी में सभी घरों में अच्छे-अच्छे पकवान बनाए जाते हैं और राम भगवान की पूजा की जाती है। ( रामनवमी पर निबंध समाप्त) (450 शब्द)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *