राष्ट्रीय पक्षी मोर पर निबंध – mor par nibandh

नमस्कार दोस्तों आज मैं आपको राष्ट्रीय पक्षी मोर पर निबंध हिंदी में बताऊंगा यह निबंध परीक्षा में पूछा जाता है तो आप इसे जरूर याद करें और जितने भी शब्द का निबंध पहुंचे आप इसी निबंध को छोटा करके लिख सकते हैं तो फिर चलिए मोर पर निबंध पढ़ते हैं।

राष्ट्रीय पक्षी मोर पर निबंध-mor par nibandh
राष्ट्रीय पक्षी मोर पर निबंध-mor par nibandh

◆ मोर पर निबंध ◆

मोर बहुत ही सुंदर पक्षी है और या हमारे देश का राष्ट्रीय पक्षी भी है मोर देखने में बहुत ही ज्यादा सुंदर होते हैं, और उनके पास बहुत बड़े बड़े सुंदर पंख होते हैं जिन्हें फैलाकर मोर और भी ज्यादा आकर्षित और सुंदर दिखाई देने लगते हैं। मोर वर्षा की ऋतु में जब प्रसन्न होते हैं तो अपने पंखों को फैलाकर मोर नाचते हैं जिससे मोर बहुत ही ज्यादा सुंदर दिखाई देते हैं।

मोर को पक्षियों का राजा भी कहा जाता है, और मोर के सर पर नीला रंग का मुकुट भी बना होता है। मोर को किसानों का मित्र भी कहा जाता है क्योंकि मोर खेतों में रहने वाले कीड़े को खाता है जिससे फसल की सुरक्षा होती है।

मोर पुलिंग होता है और मोरनी स्त्रीलिंग होता है, इनकी आवाज को 2 किलोमीटर दूर से ही सुना जा सकता है, मोर का जीवन 15 साल से 25 साल तक का होता है, इनका वजन 5 से 10 किलो तक का होता है, मोर सबसे ज्यादा वनों में रहते हैं और यह सांप को भी खा जाते हैं।

मोर के 2 पैर होते हैं और एक चोच होती हैं जिससे यह अपने भोजन को खाते हैं, मोर के शरीर का रंग नीला और बैगनी का होता है, मोर अपने सुंदर पंखों से आधे चांद के आकार का गोला बनाकर नाचते हैं।

बहुत से विद्यार्थी मोर के पंख को अपने पुस्तक में रखते हैं उनका यह मानना होता है कि मोर के पंखों पुस्तक में रखने से विद्या बढ़ती है, कुछ लोग अपने घर में मोर के पंखों रखते हैं और उनका मानना है कि मोर के पंख को घर में रखने से सांप घर में नहीं आते हैं।

हमारे देश में बहुत से लोग मोर का शिकार करते हैं जिससे मोर की जनसंख्या कम होती चली जा रही है इसीलिए भारत सरकार ने मोर का शिकार करना गैरकानूनी कर दिया है अगर कोई भी मोर का शिकार करता है तो उसे दंड दिया जाता है, इससे और की जनसंख्या की कमी को रोका जा रहा है लेकिन फिर भी बहुत से लोग चोरी छुपे मोर का शिकार करते हैं लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए। ( मोर पर निबंध समाप्त )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *