दहेज प्रथा पर निबंध – dahej pratha par nibandh

दहेज-प्रथा-पर-निबंध

दहेज प्रथा पर निबंध 650 शब्दो मे

प्रस्तावना:- दहेज प्रथा में वर पक्ष के लोग वधू पक्ष के लोगों से कुछ धन मांगते हैं जिसे दहेज कहा जाता है यह बहुत ही बड़ा अपराध है लेकिन फिर भी आज के समय में बहुत सारे लोग दहेज का मांग करते हैं और यह हमारे देश की बहुत बड़ी समस्या है।

दहेज प्रथा:- दहेज प्रथा हमारे देश की बहुत बड़ी समस्या है इसमें दूल्हे की तरफ से कुछ पैसे की मांग की जाती है जिसे दुल्हन की तरफ से उनके माता-पिता या उनके अपने लोग देते हैं लेकिन दहेज लेना कानूनन रूप से बहुत बड़ा अपराध है इसके लिए जुर्माना और जेल दोनों हो सकती हैं।

हमारे देश में कई सारे शादियों में दहेज की मांग की जाती है लेकिन फिर भी वह लोग कानूनी रूप से अपराधी होते हुए भी बड़े आराम से हमारे बीच घूमते रहते हैं, कई शादियों में तो लोगों को पता रहता है कि यह रिश्ता दहेज से तय हुआ है लेकिन फिर भी लोग चुप रहते हैं।

कई बार तो ऐसा भी होता है जब लड़की वाले उनके द्वारा मांगे गए पैसे को नहीं दे पाते हैं तो यह लोग बारात लेकर वापस चले जाते हैं या फिर बाराती लेकर नहीं आते हैं।

और कभी-कभी तो दुल्हन और उसके पिता लज्जा के कारण आत्महत्या कर लेते हैं ऐसा हमारे देश में होता आया है और हो भी रहा है।

दहेज प्रथा के निवारण:- दहेज प्रथा को समाप्त करने के लिए हमें भी आगे आना होगा अगर आपके घर में किसी व्यक्ति की शादी हो रही है तो आप ना तो किसी से दहेज ले हैं और ना ही किसी को दहेज दें अगर आपके घर में कोई लड़की है और उसकी शादी में दहेज मांगा जा रहा है तू आप उन्हें दहेज ना दें बल्कि आप अपने पास के पुलिस स्टेशन में इसकी रिपोर्ट दर्ज कराएं।

अगर किसी शादी में आपको पता चलता है कि इसमें दहेज लिया जा रहा है तो भी आपको पुलिस को इसकी जानकारी देनी है क्योंकि जब तक आप दहेज देना बंद नहीं करेंगे और इसके खिलाफ आवाज नहीं उठाएंगे तब तक दहेज मांगने वाले लोग दहेज मांगते ही रहेंगे।

अगर आप एक लड़की है तो जब आपकी शादी तय की जाए तो आप यह ध्यान जरूर दीजिएगा कि कहीं सामने से जो रिश्ता आया है यह सभी लोग दहेज की मांग तो नहीं कर रहे अगर दहेज की मांग की जा रही है तो आप दहेज ना दें या फिर उनसे कोई रिश्ता ही ना रखें क्योंकि जिनके नज़र मे पैसा ही सब कुछ है तो उनके नज़र मे रिस्ता क्या चीज़ है।

दहेज प्रथा को बढ़ावा:- दहेज प्रथा को बढ़ावा देने में लड़की के पिता का भी हाथ होता है क्योंकि लड़की के पिता हमेशा अपनी इच्छा अनुसार दमाद की खोज करते हैं जैसे कि उन्हें केवल सुंदर और पैसे वाला दमाद चाहिए होता है क्योंकि लड़की के पिता सोचते हैं कि केवल पैसे और सुंदरता से ही उनकी बेटी खुश रह पाएगी लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है हमें अपने लड़की के पसंद की शादी करनी चाहिए क्योंकि जीवन उसे व्यतीत करना है आपको नहीं।

दहेज प्रथा अच्छा या खराब:- दहेज की प्रथा बहुत पहले से ही चली आ रही है लेकिन शुरुआत में लड़की के पिता अपनी मर्जी से जो कुछ हो पाता था खुशी खुशी अपने दामाद को पैसे देकर लड़की के साथ विदा कर दिया जाता था लेकिन धीरे धीरे चल कर यही चीज एक अपराध का रूप ले लिया।

अगर लड़की के पिता खुशी खुशी बिना किसी दबाव में आकर कुछ पैसे दे रहे हैं तो यह कोई अपराध नहीं है लेकिन अगर लड़के वाले जबरन पैसे मांग रहे हैं तो यह एक अपराध है।

निष्कर्ष:- किसी भी विवाह में जबरन पैसे लेना दहेज कहलाता है और दहेज लेना और देना दोनों कानूनी रूप से दंडनीय अपराध है हमें न तो दहेज लेना चाहिए और न ही दहेज देना चाहिए अगर आप से जबरन दहेज लिया जाता है तो आप अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन में संपर्क करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *