Skip to content

जल संकट पर निबंध | Essay on water crisis in hindi

कार नमस्कार आज हम जल संकट पर निबंध पढ़ेंगे यह निबंध 400 शब्दों का है और अंत में जल संकट पर (essay on water crisis in hindi) 10 पंक्ति भी लिखी गई है आप अपने अनुसार इस निबंध को लिख सकते हैं।

जल संकट पर निबंध

इस पृथ्वी के लिए जल बहुत ही महत्वपूर्ण है इसके बिना जीवन की कल्पना करना भी मुश्किल है क्योंकि जेल से ही पृथ्वी के सभी जीव जंतु मानव पेड़ पौधे इत्यादि जीवित रह सकते हैं और आज के आधुनिक समय में बढ़ती जनसंख्या के कारण और जल की बर्बादी के कारण पृथ्वी का साथ जल खत्म होता जा रहा है।

हमारे पृथ्वी पर 71% का हिस्सा समुद्री पानी से भरा हुआ है लेकिन समुद्र का पानी पीने लायक नहीं होता है इसलिए जमीन के अंदर उपस्थित केवल 1.6 प्रतिशत पानी पीने लायक है। और बाकी 0.001 पानी बादल के रूप में आसमान में उपस्थित है।

आज के समय में लोग पानी की बचत नहीं कर रहे हैं बिना किसी मतलब के लोग पानी को खराब करते हैं और बहुत से ऐसे फैक्ट्रियां हैं जहां पर साफ पानी का उपयोग करते हैं, और उस से निकले गंदे पानी को गंगा जैसे साफ नदी में मिलाकर उसे भी गंदा कर देते हैं।

और अगर ऐसे चलते ही रहा तो आगे चलकर पृथ्वी पर पानी की कमी हो जाएगी जिससे कि जीव-जंतु पेड़-पौधे और पंछियों को जीवित रहने के लिए पानी नहीं उपस्थित रहेगा इसलिए सभी का पृथ्वी पर से जीवन खत्म हो जाएगा।

इसीलिए बहुत से लोग हैं ऐसे हैं जो कि पानी को बचाने की कोशिश कर रहे हैं और कई देशों की सरकारें भी इसमें सहयोग कर रहे हैं ताकि आने वाली पीढ़ी को कोई दिक्कत का सामना ना करना पड़े अगर पानी की कमी हो गई तो युद्ध हो सकता है।

आज भी ऐसे बहुत से देश है जहां पर पानी की कमी है और हमारे देश भारत में भी ऐसे कई गांव और शहर हैं जहां पर पानी की कमी है और वे लोग पानी को बहुत दूर से लाते हैं उन लोगों को पानी की असली कीमत बताओ होती है।

इसलिए हमें पानी का बचत करनी चाहिए और कम से कम पानी का उपयोग करना चाहिए ताकि हमारे पृथ्वी का जीवन ज्यादा समय तक रहे और पानी की कमी को पूरा करने के लिए हमें पेड़ पौधे भी लगाना चाहिए और जल प्रदूषण नहीं करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.